Shiv Dixit

Mathura, INDIA
31
Posts
0
Books
2
Followers
0
Following
1058
Reputation

सिलसिला

जो बह रहा है सदा से दरिया तो प्यास भी सदियोँ का सिलसिला है ये ज़िँदगी है वही Read More

सच जान के रख

दुनिया के असली चेहरे को थोडा सा पहचान के रख वरना धोखा खा जायेगा मेरी बातेँ Read More

तुझसे मेरा ठहरना तुझसे ही रवानी है

… तुझसे मेरा ठहरना तुझसे ही रवानी है ….......... क़िरदार में हूँ मौला और तू कहानी Read More

तुम सा नहीँ मिला कोई

जबसे तुम सा नहीँ मिला कोई मुझमेँ मुझ सा नहीँ रहा कोई इस मुहब्बत को आज़माने Read More

तंगदिल

आँख मेँ आँसू भरते क्या करके ग़म भी करते क्या जिसका दिल ही पत्थर था उसपे जीते Read More

आयेँगे वो

आयेँगे वो सोच कर हम घर सजाते रह गये । और कभी दे कर सदा उनको बुलाते रह गये Read More

हासिल क्या है !

तुमसे दिल भी न मेरा संभाला गया क्योँ ना शौके वफ़ा तुमसे पाला गया तुमने मुझसे Read More

हसरत

आपके दिल मेँ रहूँ अब . . . . . ऐसी हसरत भी नहीँ दरमियाँ बस फ़ासले हैँ . . . . . कोई क़ुरबत Read More

तलाश

क्यूँ अमावस की निशा सा जागता नयनों में कोई मंज़िलों की राह जाने क्यूँ Read More

ग़ुमनाम रहे …….मशहूर रहे

ग़ुमनाम रहे …….मशहूर रहे कभी पास रहे ..कभी दूर रहे तेरी अलबेली ….. दुनिया से कभी Read More

ज्योति पर्व आया है

सभी को परिवार सहित ज्योति पर्व दीपावली कि हार्दिक शुभकामनाएं-- ज्योति पर्व Read More

रहबरी करता है कुर-आँ और गीता बनकर

रहबरी करता है कुर-आँ और गीता बनकर साथ रहता है वही इल्म का दीया बनकर मैं बख्श Read More

तेरे चेहरे पे जो खुशियों का बसेरा देखा

तेरे चेहरे पे जो खुशियों का बसेरा देखा बाद मुद्दत के हमने अबके सवेरा देखा हर Read More

Lets Forget .......

Lets Forget..... ... Read More

ना चला न रुका ये सफ़र ...

ना चला न रुका ये सफ़र क्या रहा ना जला ना बुझा बस धुआँ सा रहा प्यार की राह Read More

ये जीवन पल पल बीत रह ...

ये जीवन पल पल बीत रहा सागर साँसों का रीत रहा ये दुनिया सब अनजानी सी जीना लगता Read More

कोई तो आज कल

कोई तो आज कल मुझको भी दे दे कभी दो चार पल मुझको भी दे दे ज़माने भर का तू है ग़र Read More

तू जो मुझको बताता है सच ऐसा नहीं होता

तू जो मुझको बताता है सच ऐसा नहीं होता तू जैसा नज़र आता है सच ऐसा नहीं होता Read More

तू फरेबों की आब-व्-ताब रहा

तू फरेबों की आब-व्-ताब रहा सच मगर मेरा पुरशबाब रहा ख्वाब तुझको रहा तेरा ही Read More

मैं ज़र्रा हूँ

1. मैं ज़र्रा हूँ ज़मीनों का मुझे ठोकर न मारो तुम मैं ग़र आंधी में बदला तो कहीं Read More



WriterBabu is a free online social network for people who want to express themselves freely, and grow with the help of unbiased feedback. One can share short stories, poems, articles, diaries and books on WriterBabu.

keep writing ... writing is fun ...

More From WriterBabu: